Category Archives: रसोई

Organic Food

हेल्थ का सीधा रिश्ता डाइट (Diet) से है | हेल्दी रहने के लिए लोग अब तेजी से ऑर्गेनिक फूड (Organic Food) अपना रहे हैं, इसे सेहत के लिहाज से काफी अच्छा माना जाता है | शरीर को बीमारियां के घेर लेने का एक बड़ा कारण है आपका खान-पान. आजकल फल (Fruits) हो या सब्जियां (Vegetables) हर किसी में केमिकल मिला होता है , जो सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं | इस खतरे से बचने के लिए लोग ऑर्गेनिक फूड का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं | खाद्य पदार्थों खेती से पैदा होते हैं, किसान भी पैदावार बढ़ाने के लिए खेत में खाद डालते हैं | यह भी एक केमिकल है जो तमाम तरह के खाद्य पदार्थों में मिल जाता है,  अगर आप ऑर्गेनिक फूड को खाते हैं तो आप इस केमिकल से होने वाले खतरे से बचे रह सकते हैं |

iStock-531690340-1

क्या होते हैं ऑर्गेनिक फूड

ऑर्गेनिक फूड में किसी भी तरह का केमिकल नहीं मिला होता है | ऑर्गेनिक फूड वे फूड होते हैं, जो केमिकल-फ्री होते हैं | इनमें किसी तरह के पेस्टिसाइड्स या रासायनिक खाद इस्तेमाल नहीं होती | इसे जैविक खेती भी कहा जाता है | ऑर्गेनिक फूड में किसी भी प्रकार के रसायन का उपयोग नहीं किया जाता है और ये प्रकृति के संतुलन के साथ उगाए जाते हैं | इसमें विटामिन, मिनरल्स, प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, आदि जरूरी तत्व मौजूद होते हैं। ये ही वो चीजें हैं, जो शरीर को स्वस्थ रखती हैं |

organic-food-cancer-risk-1-4

– ऑर्गेनिक फूड्स की सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि इनका शरीर पर कोई साइड-इफेक्ट नहीं होता है। इसमें किसी भी तरह के कैमिकल, पेस्टीसाइड, दवाएं या प्रिजर्वेटिव का प्रयोग नहीं किया जाता है |

ऑर्गेनिक फूड में केमिकल युक्त फूड्स से पोषक तत्वों की मात्रा ज्यादा होती है | इनमें विटामिन और मिनरल अधिक होते हैं |

– ऑर्गेनिक फूड में मौजूद पोषक तत्व दिल की बीमारियों, ब्लड प्रेशर की समस्या, माइग्रेन, मधुमेह और कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों से बचाव करने में फायदेमंद हो सकते हैं. इसमें फैट न के बराबर होता है | इससे वजन को कंट्रोल किया जा सकता है |

ऑर्गेनिक फूड्स में आमतौर पर जहरीले तत्व नहीं होते क्योंकि इनमें केमिकल्स, पेस्टिसाइड्स, ड्रग्स, प्रिजर्वेटिव जैसी नुकसान पहुंचाने वाली चीजों का इस्तेमाल नहीं किया जाता |

– ऑर्गेनिक फूड के सेवन से शरीर की इम्यूनिटी मजबूत होती है | इसका स्वाद बेहतर होता है साथ ही यह त्वचा के लिए फायदेमंद माना जाता है |

जैविक आहारों का पूरा फायदा तभी मिल पाता है, जब इनका सेवन सही तरीके से किया जाए | अगर आप इन आहारों को सही तरीके से नहीं पकाते हैं, तो फायदे के बजाय नुकसान हो सकते हैं|

20191121102144-organic1

क्यों होते हैं ऑर्गेनिक फूड महंगे

ऑर्गनिक फूड्स में आम फूड्स के मुकाबले ज्यादा पोषक तत्व होते हैं, साथ ही सबसे खास बात है कि यह केमिकल युक्त नहीं होते हैं | इनके साइइफेक्ट्स न के बराबर होते हैं और ये स्वाथ्य के लिए ये फूड्स काफी फायदेमंद होते हैं | इनके रख रखाव में ज्यादा खर्चा आता है इसलिये ये महंगे होते है |

Organic101_SocialMedia_1a4

#rahulinvision

 

रसोई : मोदक

मोदक (Steamed Dessert Dumplings) महाराष्ट्र में खाया जाने वाला, गणेश जी का प्रिय व्यंजन है | महाराष्ट्र में, गणेश पूजा के अवसर पर मोदक (Rice modak) घर घर में बनाया जाता है | मोदक बनाने में घी तो लगता ही नही इसलिये आप इसे जितना चाहें उतना खा सकते हैं |

dry-fruits-modak-recipe46.jpg

आवश्यक सामग्री – Ingredients for Modak

  • चावल का आटा – 2 कप
  • गुड़ – 1 .5 कप (बारीक तोड़ा हुआ )
  • कच्चे नारियल – 2 कप ( बारीक कद्दूकस किया हुआ )
  • काजू – 4 टेबल स्पून ( छोटे छोटे टुकड़ों में काट लीजिये )
  • किशमिश – 2-3 टेबल स्पून
  • खसखस – 1 टेबल स्पून ( गरम कढ़ाई में डालकर हल्का सा रोस्ट कर लीजिये)
  • इलाइची – 5 -6( छील कर कूट लीजिये )
  • घी – 1 टेबल स्पून
  • नमक – आधा छोटी चम्मच

विधि – How to make Modak

गुड़ और नारियल को कढ़ई में डाल कर गरम करने के लिये रखें |चमचे से चलाते रहें, गुड़ पिघलने लगेगा चमचे से लगातार चला कर भूने, जब तक गुड़ और नारियल का गाढ़ा मिश्रण न बन जाय | इस मिश्रण में काजू,  किशमिश, खसखस और इलाइची मिला दें |यह मोदक में भरने के लिये पिठ्ठी तैयार है |

2 कप पानी में 1 छोटी चम्मच घी डाल कर गरम करने रखिये |जैसे ही पानी में उबाल आ जाय, गैस बन्द कर दीजिये और चावल का आटा और नमक पानी में डाल कर चमचे से चला कर अच्छी तरह मिला दीजिये और इस मिश्रण को 5 मिनिट के ढक कर रख दीजिये |

अब चावल के आटे को बड़े बर्तन में निकाल कर हाथ से नरम आटा गूथ कर तैयार कर लीजिये |यदि आटा सख्त लग रहा हो तो 1 – 2 टेबल स्पून पानी और डाल सकते हैं |एक प्याली में थोड़ा  घी रख लीजिये | घी हाथों में लगाकर आटे को मसलें, जब तक कि आटा नरम न हो जाय |इस आटे को साफ कपड़े से ढक कर रखें |

हाथ को घी से चिकना करें और गूथे हुये चावल के आटे से एक नीबू के बराबर आटा निकाल कर हथेली पर रखें,  दूसरे हाथ के अँगूठे और उंगलियों से उसे किनारे पतला करते हुये बढ़ा लीजिये, उंगलियों से थोड़ा  गड्डा करें और इसमें 1 छोटी चम्मच पिठ्ठी रखें | अँगूठे और अँगुलियों की सहायता मोड़ डालते हुये ऊपर की तरफ चोटी का आकार देते हुये बन्द कर दीजिये.  सारे मोदक इसी तरह तैयार कर लीजिये |

किसी चौड़े बर्तन में 2 छोटे गिलास पानी डाल कर गरम करने रखें |जाली स्टैन्ड लगाकर चलनी में मोदक रख कर भाप में 10 – 12 मिनिट पकने दीजिये |आप देखेंगे कि मोदक स्टीम में पककर काफी चमक दार लग रहे हैं |  मोदक तैयार हैं |

मोदक (Modak) को प्लेट में निकाल कर लगायें, और गरमा गरम परोसिये और खाइये |

766ad99ac3b0e0cc8c69251376d04be9

#rahulinvision