Category Archives: Ayush

Epidemic Act (महामारी कानून)

क्या है महामारी कानून?

ये कानून आज से 123 साल पहले साल 1897 में बनाया गया था, जब भारत पर अंग्रेजों का शासन था। तब बॉम्बे में ब्यूबॉनिक प्लेग नामक महामारी फैली थी। जिस पर काबू पाने के उद्देश्य से अंग्रेजों ने ये कानून बनाया।

महामारी वाली खतरनाक बीमारियों को फैलने से रोकने और इसकी बेहतर रोकथाम के लिए ये कानून बनाया गया था। इसके तहत तत्कालीन गवर्नर जेनरल ने स्थानीय अधिकारियों को कुछ विशेष अधिकार दिए थे।

ये कानून भारत के सबसे छोटे कानूनों में से एक है। इसमें सिर्फ चार सेक्शन बनाए गए हैं।

पहले सेक्शन में कानून के शीर्षक और अन्य पहलुओं व शब्दावली को समझाया गया है। दूसरे सेक्शन में सभी विशेष अधिकारों का जिक्र किया गया है जो महामारी के समय में केंद्र व राज्य सरकारों को मिल जाते हैं।

तीसरा सेक्शन कानून के प्रावधानों का उल्लंघन करने पर भारतीय दंड संहिता (IPC – Indian Penal Code) की धारा 188 के तहत मिलने वाले दंड/जुर्माने का जिक्र करता है। चौथा और आखिरी सेक्शन कानून के प्रावधानों का क्रियान्वयन करने वाले अधिकारियों को कानूनी संरक्षण देता है।

क्या कहता है Epidemic Act Section 2 –

इसमें महामारी के दौरान सरकार को मिलने वाले विशेषाधिकारों का जिक्र किया गया है। इसके अनुसार, सरकार जरूरत महसूस होने पर अधिकारियों को सामान्य प्रावधानों से अलग अन्य जरूरी कदम उठाने के लिए कह सकती है।

सरकार के पास रेलवे या अन्य साधनों से यात्रा कर रहे लोगों की जांच करने/करवाने का अधिकार है। जांच कर रहे अधिकारी को अगर किसी व्यक्ति के संक्रमित होने का शक भी होता है, तो वह उसे भीड़ से अलग किसी अस्पताल या अन्य व्यवस्था में रख सकता है।

सरकार किसी बंदरगाह से आ रहे जहाज या अन्य चीजों की पूरी जांच कर सकती है, उसे डिटेन भी कर सकती है।

महामारी कानून के सेक्शन 3 के तहत इसका जिक्र किया गया है। इसके अनुसार, कानून के प्रावधानों का उल्लंघन करने / न मानने पर दोषी को 6 महीने तक की कैद या 1000 रुपये जुर्माना या दोनों की सजा दी जा सकती है।

पड़े Epidemic Act –

#rahulinvision

Organic Food

हेल्थ का सीधा रिश्ता डाइट (Diet) से है | हेल्दी रहने के लिए लोग अब तेजी से ऑर्गेनिक फूड (Organic Food) अपना रहे हैं, इसे सेहत के लिहाज से काफी अच्छा माना जाता है | शरीर को बीमारियां के घेर लेने का एक बड़ा कारण है आपका खान-पान. आजकल फल (Fruits) हो या सब्जियां (Vegetables) हर किसी में केमिकल मिला होता है , जो सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं | इस खतरे से बचने के लिए लोग ऑर्गेनिक फूड का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं | खाद्य पदार्थों खेती से पैदा होते हैं, किसान भी पैदावार बढ़ाने के लिए खेत में खाद डालते हैं | यह भी एक केमिकल है जो तमाम तरह के खाद्य पदार्थों में मिल जाता है,  अगर आप ऑर्गेनिक फूड को खाते हैं तो आप इस केमिकल से होने वाले खतरे से बचे रह सकते हैं |

iStock-531690340-1

क्या होते हैं ऑर्गेनिक फूड

ऑर्गेनिक फूड में किसी भी तरह का केमिकल नहीं मिला होता है | ऑर्गेनिक फूड वे फूड होते हैं, जो केमिकल-फ्री होते हैं | इनमें किसी तरह के पेस्टिसाइड्स या रासायनिक खाद इस्तेमाल नहीं होती | इसे जैविक खेती भी कहा जाता है | ऑर्गेनिक फूड में किसी भी प्रकार के रसायन का उपयोग नहीं किया जाता है और ये प्रकृति के संतुलन के साथ उगाए जाते हैं | इसमें विटामिन, मिनरल्स, प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, आदि जरूरी तत्व मौजूद होते हैं। ये ही वो चीजें हैं, जो शरीर को स्वस्थ रखती हैं |

organic-food-cancer-risk-1-4

– ऑर्गेनिक फूड्स की सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि इनका शरीर पर कोई साइड-इफेक्ट नहीं होता है। इसमें किसी भी तरह के कैमिकल, पेस्टीसाइड, दवाएं या प्रिजर्वेटिव का प्रयोग नहीं किया जाता है |

ऑर्गेनिक फूड में केमिकल युक्त फूड्स से पोषक तत्वों की मात्रा ज्यादा होती है | इनमें विटामिन और मिनरल अधिक होते हैं |

– ऑर्गेनिक फूड में मौजूद पोषक तत्व दिल की बीमारियों, ब्लड प्रेशर की समस्या, माइग्रेन, मधुमेह और कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों से बचाव करने में फायदेमंद हो सकते हैं. इसमें फैट न के बराबर होता है | इससे वजन को कंट्रोल किया जा सकता है |

ऑर्गेनिक फूड्स में आमतौर पर जहरीले तत्व नहीं होते क्योंकि इनमें केमिकल्स, पेस्टिसाइड्स, ड्रग्स, प्रिजर्वेटिव जैसी नुकसान पहुंचाने वाली चीजों का इस्तेमाल नहीं किया जाता |

– ऑर्गेनिक फूड के सेवन से शरीर की इम्यूनिटी मजबूत होती है | इसका स्वाद बेहतर होता है साथ ही यह त्वचा के लिए फायदेमंद माना जाता है |

जैविक आहारों का पूरा फायदा तभी मिल पाता है, जब इनका सेवन सही तरीके से किया जाए | अगर आप इन आहारों को सही तरीके से नहीं पकाते हैं, तो फायदे के बजाय नुकसान हो सकते हैं|

20191121102144-organic1

क्यों होते हैं ऑर्गेनिक फूड महंगे

ऑर्गनिक फूड्स में आम फूड्स के मुकाबले ज्यादा पोषक तत्व होते हैं, साथ ही सबसे खास बात है कि यह केमिकल युक्त नहीं होते हैं | इनके साइइफेक्ट्स न के बराबर होते हैं और ये स्वाथ्य के लिए ये फूड्स काफी फायदेमंद होते हैं | इनके रख रखाव में ज्यादा खर्चा आता है इसलिये ये महंगे होते है |

Organic101_SocialMedia_1a4

#rahulinvision