Tag Archives: #rahulinvision

जाने कौन थे बप्पा मौर्या ???

आस्था की एक अनोखी यात्रा पिछले 600 सालों से जारी है। इस यात्रा में करोड़ों भक्त शामिल हैं। हम बात कर रहे हैं करोड़ों गणेश भक्तों की, जो सालों से गणपति बप्पा मोरया के नारे लगा रहे हैं, लेकिन उनमें से ज्यादातर नहीं जानते कि मोरया असल में थे कौन?

पुणे से 18 किलोमीटर दूर चिंचवाड़ के इस इलाके का बच्चा-बच्चा मोरया की कहानी जानता है। मोरया गोसावी 14वीं शताब्दी के वो महान गणपति भक्त हैं जिनकी आस्था की चर्चा उस दौर के पेशवाओं तक पहुंची तो वो भी इस दर पर अपना माथा टेकने यहां तक चले आए। उन्हीं के नाम पर बना मोरया गोसावी समाधि मंदिर आज करोड़ों भक्तों की आस्था का केंद्र है। पुणे से करीब 18 किलोमीटर दूर चिंचवाड़ में इस मंदिर की स्थापना खुद मोरया गोसावी ने की थी।

कहा जाता है कि 1375 में मोरया गोसावी का जन्म भी भगवान गणेश की कृपा से ही हुआ था। उनके पिता वामनभट और मां पार्वतीबाई की भक्ति से खुश होकर भगवान ने कहा था कि वो उनके यहां पुत्र के रूप में जन्म लेंगे। यही वजह है कि मोरया गोसावी का जन्मस्थल भी गणेश भक्तों के लिए किसी तीर्थ से कम नहीं है। बचपन से ही मोरया गोसावी गणेश भक्ति में कुछ इस तरह रम गए कि उन्हें दीन-दुनिया का कुछ ख्याल ही नहीं रहता। थोड़े बड़े हुए तो मोरगांव के मयूरेश्वर मंदिर में गणपति के दर्शन के लिए जाने लगे।

Morya_Gosavi.jpgMorya_Gosavi-1.jpg
इस मंदिर के निर्माण की कहानी बेहद रोचक है। कहते हैं कि मोरया गोसावी हर गणेश चतुर्थी को चिंचवाड़ से पैदल चलकर 95 किलोमीटर दूर मयूरेश्वर मंदिर में भगवान गणेश के दर्शन करने जाते थे। ये सिलसिला उनके बचपन से लेकर 117 साल तक चलता रहा। उम्र ज्यादा हो जाने की वजह से उन्हें मयूरेश्वर मंदिर तक जाने में काफी मुश्किलें पेश आने लगी थीं। तब एक दिन गणपति उनके सपने में आए।

चिंचवाड़ देवस्थान के ट्रस्टी विश्राम देव कहते हैं कि 1492 की बात है। 117 साल उम्र थी। मयूरेश्वर जी सपने में आए, कहा कि जब स्नान करोगे तो मुझे पाओगे। मोरया गोसावी जब कुंड से नहाकर बाहर निकले तो उनके हाथों में मयूरेश्वर गणपति की छोटी सी मूर्ति थी। उसी मूर्ति को लेकर वो चिंचवाड़ आए और यहां उसे स्थापित कर पूजा-पाठ शुरू कर दी। धीरे-धीरे चिंचवाड़ मंदिर की लोकप्रियता दूर-दूर तक फैल गई। महाराष्ट्र समेत देश के अलग-अलग कोनों से गणेश भक्त यहां बप्पा के दर्शन के लिए आने लगे।

मान्यता है कि जब मंदिर का ये स्वरूप नहीं था तब भी यहां भक्तों की भारी भीड़ जुटती थी। यहां आने वाले भक्त सिर्फ गणपति बप्पा के दर्शन के लिए नहीं आते थे, बल्कि विनायक के सबसे बड़े भक्त मोरया का आशीर्वाद लेने भी आते थे। भक्तों के लिए गणपति और मोरया अब एक ही हो गए थे।

पुणे शहर से करीब 80 किलोमीटर दूर मोरगांव के मयूरेश्वर मंदिर की स्थापना कब और कैसे हुई, इस बारे में कोई पुख्ता जानकारी तो नहीं मिलती, लेकिन इतना तय है कि मोरया गोसावी की भक्ति ने इस तीर्थ स्थल को सभी गणेश भक्तों के लिए अहम बना दिया है। मान्यता है कि अष्टविनायक के दर्शन की शुरुआत भी मयूरेश्वर से होती है और अंत भी यहीं होता है। अष्टविनायक यानी 8 गणपति। ये आठ मंदिर महाराष्ट्र के अलग-अलग इलाकों में हैं।

मयूरेश्वर मंदिर परिसर में पेड़ के नीचे मोरया गोसावी की मूर्ति भक्ति की एक अनोखी कहानी कहती है।  बताया जाता है कि एक बार चिंचवाड़ से चलकर मोरया गोसावी यहां तक आ तो गए, लेकिन आगे का रास्ता बाढ़ की वजह से बंद हो चुका था। तब पेड़ के नीचे बैठकर मोरया गोसावी ने मयूरेश्वर गणपति को याद किया और भगवान अपने भक्त को दर्शन देने यहां तक चले आए। यहां आने वाले भक्तों की जितनी श्रद्धा मयूरेश्वर गणपति में हैं, उतनी ही मोरया गोसावी में है। भक्त मोरया गोसावी को मयूरेश्वर गणपति का अवतार मानते हैं। भक्तों के मुताबिक यहां आकर उन्हें दोनों देवों के दर्शन हो जाते हैं, उन्हें मनचाही मुराद मिल जाती है।

कहते हैं कि मोरया गोसावी जी ने संजीवन समाधि ले ली थी, यानी जीते जी वो समाधि में लीन हो गए थे। भक्त मानते हैं कि आज भी मोरया गोसावी तीर्थस्थलों में मौजूद हैं। यही वजह है कि यहां गणपति के साथ-साथ मोरया की भी पूजा की जाती है।

This slideshow requires JavaScript.

#rahulinvision

Advertisements

Tarot Card Reading : know your future

टैरो जादू नहीं है। यह किसी की आत्मा या भविष्य की अंतर्दृष्टि नहीं है। यह किसी के जीवन में संभावनाओं को देखने और चीजों के बारे में सोचने के नए तरीकों की ओर एक ऊर्जा केंद्रित करने का एक तरीका है। यह किसी के दिमाग को खोलने के लिए है, इसे बंद करने के लिए नहीं।

जो लोग टैरो पढ़ते हैं, उनके पास दो कौशल होते हैं (memorization and observation) जिनका वे अभ्यास करते हैं और कम से कम दो व्यक्तित्व लक्षणों (intuition and perception) में से एक प्रदर्शन करते हैं।

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, एक पाठक को कार्ड के डेक को याद करना होता है। यह एक आसान काम नहीं है। टैरो डेक में चार “सूट” (वैंड्स, कप, तलवार और पेंटाकल्स [या सिक्के]) होते हैं और प्रत्येक सूट में एक से दस कार्ड शामिल होते हैं | इन चार सूटों (जिसे माइनर अर्चना कहा जाता है) के अलावा, 22 और कार्ड हैं जिन्हें मेजर अर्चना कहा जाता है। पूर्ण टैरो डेक 62 कार्ड बनाता है और हर कार्ड का एक विशिष्ट अर्थ होता है।

giphy.gif

पढ़ना विज्ञान नहीं, उसकी एक कला है। कला को परिभाषित करना असंभव है। कला वह है जिसे हम सभी बनाते हैं और यह टैरो का तरीका है। अभ्यास हमें बेहतर बनाता है लेकिन कोई पूर्ण नहीं है। एक खुले दिमाग के साथ टैरो में जाएं और उम्मीद के बिना टैरो का अनुभव करें। टैरो में केवल विकल्प और संभावनाएं हैं। पढ़ने और पढ़ने का आनंद लें। जीवन का आनंद लें।

Register yourself for free Tarot Card on this site. Go on top right of this site and click on ‘Tarot Appointment’ tab. Fill the form and wait for the call.

Also visit https://teroboii.tumblr.com/

#rahulinvision